कल आज और कल

आज करीब डेढ़ साल बाद दिल्ली में वापस कदम रखा | यूँ लगा मानो ज़िन्दगी बैलगाड़ी की रफ़्तार छोड़ कर मेट्रो पर उतर गई है, मन फिर चंचल हो गया और तैयार हो गया हवा से बाते करने को | कितना कुछ बदल गया है यहाँ... लेकिन मन में एक सुकून सा है | भले ये सुकून केवल सात दिनों का है | उसके बाद फिर रायपुर वापस लौटकर बैलगाड़ी की चाल चलना है | रायपुर जाने के बाद कभी सोचा नहीं था, कि दिल्ली फिर आना नसीब होगा | सच कहूँ... तो अब रायपुर में रहने का दिल नहीं करता, कारण  एक नहीं के हैं | दिल्ली आने से पहले भी मैं खुद से इसी विषय पर तर्क वितर्क कर रही थी कि, रायपुर छोड़ने का मन  तो बना लिया है, पर आगे कहाँ जाना है ? और क्या करना है ? दिल्ली की गलियों में फिर से धक्के खाने है या मुंबई जाकर एक और मेट्रो में किस्मत को आज़माना है | मगर अब तक नतीजे पर नहीं पहुँच पाई हूँ..... | नतीजे पर कभी दिल नहीं पहुँचने देता है तो कभी दिमाग | किसी भी बारे में कुछ भी सोचने या करने से पहले कई तरह से अपने आपको टटोलना पड़ता है | ये बड़ा ही कठिन दौर होता है , लेकिन सभी मनुष्यों के जीवन में  ऐसे दोराहे  कई बार आते हैं | लड़की हूँ इसीलिये घरवालो के नज़रिए को भी देखना और समझना पड़ता है |  पर अब व्यक्तिगत रूप से कुछ कर दिखाने का समय आ गया है |  कुएं की मेंढकी  बन कर अब मैं नहीं जीना चाहती | जीवन में कुछ कर गुजरने का ज़ज्बा जो मेरे अन्दर है उसे अब मैं सबके सामने लाना चाहती हूँ | मुझे लगता है,  कि अब  वो समय आ गया है | अब तक ज़िन्दगी में कई समझौते कर चुकी हूँ | अब अपना फैसला खुद लेने का वक़्त है, जिसमें मैं किसी की नहीं सुनूंगी....पर दिल और दिमाग में  द्वंद्व युद्ध जारी है |  मुझे भी इंतज़ार है उस नतीजे का | जिसमें ईश्वर की  भी स्वीकृति हो |

2 Response to "कल आज और कल"

  1. आचार्य जी says:
    June 20, 2010 at 5:40 AM

    मन की हलचल।

  2. अहफ़ाज रशीद says:
    June 21, 2010 at 2:34 AM

    अच्छे लेखन के लिए बढ़ाई. मन बड़ा ही चंचल होता है. उसे सम्हाल पाना बड़ा कठिन होता है. समय की गति सब कुछ स्वयं ठीक कर देती है. भैरव बाबा के आदेश का इंतज़ार करो. सब कुछ ठीक हो जायेगा. और एक दिन आप खुद ये महसूस करने लगेंगी की दुनिया तो एकदम वैसी ही चल रही है जैसा आप चाहती थीं. समय होत बलवान बेटा. just wait & watch ..

Post a Comment