वाह! वाह! रायपुर हाय.. हाय.. मीडिया

वाह रे, रायपुर शहर तेरे क्या कहने...? जवाब नहीं तेरा। जिसको काम की ज़रूरत है उसे काम नहीं मिलता और जिसे नहीं है उसे आराम नहीं मिलता। मिनी बॉम्बे कहे जाने वाले रायपुर में मीडिया का आज इतना भददा मजाक उड़ा है कि किसी से ना तो हँसते बन रहा है और ना ही अपनी हंसी को रोकते बन रहा है। यहाँ भी अन्य बड़े शहरों की ही तरह काबिलियत और शिक्षा के ज़रिये नहीं, बल्कि नाम और पहुँच के बलबूते ही काम मिलता है। काम चाहे छोटा हो या बड़ा उसे पाने के लिये आपकी पहुँच उस काम से बड़ी होनी चाहिए। वरना... यहाँ तो एक अनार के लाखों बीमार मिलते हैं। मेहनत और संघर्ष देखा है किसी ने....? नहीं इसके अलावा आप जो चाहे करवा लो।
मीडिया शुरुआत से ही लोकतंत्र का चौथा और सबसे ज्यादा प्रभावशाली और महत्वपूर्ण स्तम्भ माना गया है। जिसने हमेशा लोगों को जागरूक करने के साथ साथ सच्चाई और वास्तविकता से भी रूबरू कराया है। तभी तो मीडिया कर्मियों से सब डरते है और उनकी इज्ज़त भी करते है। लेकिन आज जो कुछ देखने सुनने को मिला उस बात ने रायपुर की पत्रकारिता को मज़ाक तो बना ही दिया साथ ही यहाँ के उद्गामी पत्रकारों शर्मसार भी किया है। शुरुआत में ५६ देशों में दिखने का दावा करते आये हिंदुस्तान चैनल को रायपुर में किसी ने नहीं देखा था। उसके बाद रायपुर में दिखने के बाद यह बाकी की ५६ देशो से गायब हो गया। इसके ऑफिस में श्रम विभाग द्वारा मारे गये छापे से पता चला की पत्रकार को यहाँ पत्रकार नहीं बल्कि बंधुआ मजदूर की तरह इस्तेमाल किया जाता था। जिसमें एक दिन की कमाई पुरे दिन के काम के अनुसार होती थी। काम नहीं तो पगार नहीं.... यह यहाँ का उसूल हुआ करता था। आज की स्थिति यह है की काम नहीं और अब चैनल भी नहीं। छोटी छोटी उम्र में बड़े बड़े ओहदों पर बैठे लोगों का तजुर्बा मुश्किल से से महीने का ही है। और वैसे भी रायपुर के पूरे मीडिया क्षेत्र का यही हाल है। अगर सभी गड़े मुर्दे उखाड़े जाये तो ना किसी के पास पत्रकारिता की डिग्री है और ना इसके प्रभाव की छाप।शादी ब्याह में केमरा चलाने वाले लोग यहाँ केमरामेन है तो १२ पास करके नोटों की गड्डीयां कमाने की चाह रखने वाले यहाँ पत्रकार हैं। कहने को खुद को सबसे अच्छा और तेजस्वी पत्रकार बताते है। जिनके तेज से पूरा प्रेस क्लब और रायपुर दोनों वाकिफ है. सड़क के किनारे कपड़े इस्त्री करने वाले धोबी भी अपनी गाड़ियों पर प्रेस लिखवा कर चलते है। पूछने पर कहते है कपड़े प्रेस करते है तभी तो प्रेस वाले है।
रायपुर की मीडिया के हालात देखकर तो यही शेर याद आता है- अजब तेरी किस्मत, अजब तेरा खेल, छछूंदर के सर में चमेली का तेल

2 Response to "वाह! वाह! रायपुर हाय.. हाय.. मीडिया"

  1. honesty project democracy says:
    May 5, 2010 at 7:34 AM

    इन नेताओं ने इस देश में शिक्षा और शिक्षित लोगों की पेट भरने का एक ही रास्ता छोड़ रखा है ,हमारे जैसा बनो भ्रष्टाचार में शामिल हो जाओ ,नहीं तो भूखे मरों ,ऐसे हालात में इन पत्रकारों का गलत राह पे चलना और मिडिया का अस्तित्व पे ही सवाल खरा होना लाजमी है / अब तो एक ही रास्ता है की सर पे कफ़न बांधकर इन लूटेरों से देश को मुक्ति दिलानी होगी /

  2. Dhirendra Giri says:
    May 5, 2010 at 10:19 AM

    संगीता जी इस घटना के बाद से छत्तीसगढ़ के पत्रकारिता में नया मोड़ आने वाला है

Post a Comment